वृष मासिक राशिफल - मई का वृष राशिफल

मई, 2021

वृष का सामान्य

इस माह आपका मन थोड़ा भटकेगा। साथ ही आपको अपनी सोच पर नियंत्रण रखना होगा अन्यथा कोई निर्णय ग़लत हो सकता है, अतः किसी बड़े निर्णय को या तो टाल दें या बहुत सोच-विचार कर निर्णय लें। जीवन साथी की बातों को वरीयता दें तथा उनके/उनकी इच्छाओं का सम्मान करें। भाग्य पक्ष थोड़ा कमज़ोर है, अतः भाग्य के भरोसे कोई काम ना करें। यदि शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने की सोच रहे हैं तो ठहर जाएँ या कम और बहुत सोच-विचार के बाद इन्वेस्ट करें। यात्राएँ हो सकती हैं, गहरे पानी और आग से थोड़ी दूरी बना कर रखें। पिता या बॉस के साथ थोड़ा मिलकर चलने की ज़रुरत रहेगी अन्यथा मतभेद उभर सकता है। वाहन चलाते समय सतर्कता बरतें, चोट-चपेट का योग बन रहा है।

वृष का आर्थिक जीवन

लाभेश-पंचमेश और भाग्येश तथा कर्मेश अर्थात बुध और शनि दोनों ही वक्री हैं अर्थात यह समय कोई अधिक उत्साह वर्धक नहीं है, क्योंकि ना तो भाग्य ही बेहतर तरीके से साथ देगा और ना ही कर्म ही अच्छे से हो पायेगा और यदि यह दोनों ही ठीक ना हों तो सकारात्मक परिणाम की उम्मीद रखना ठीक नहीं है। धन की स्थिति में लगातार अस्थिरता बनी रहेगी, वर्तमान में दशा यदि गुरु या केतु की है फिर तो पराक्रम के बल पर खूब धन आएगा अन्यथा बहुत परेशानिओं के बाद सफलता मिलेगी। आय तो होगी परन्तु अनावश्यक खर्च भी परेशान करेंगे। नौकरी में परिवर्तन का योग बन रहा है, अतः यदि कोई अवसर मिल रहा हो तो परिवर्तन कर सकते हैं। इसका परिणाम तत्काल तो बेहतर नहीं होगा परन्तु बाद में यह अच्छा परिणाम देगा।

वृष का स्वास्थ्य जीवन

सूर्य और मंगल के प्रभाव के कारण विचारों में थोड़ी उग्रता रहेगी साथ ही कहीं चोट-चपेट लगने की सम्भावना बनेगी, विशेष कर चेहरे और आँखों को लेकर अत्यधिक सतर्कता बरतें। स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहें, क्रोध और अनावश्यक उत्तेजना रहेगी जिसके कारण यदि वाहन स्वयं चलाते हैं तो सिमित गति सीमा में उसे चलायें अन्यथा घटना-दुर्घटना को स्वयं निमंत्रण दे बैठेंगे।

वृष का पारिवारिक जीवन

वैवाहिक जीवन में तथा प्रेम संबंधों में थोड़ी कठिनाई या शिथिलता का अनुभव करेंगे, अपने जीवन साथी या सहयोगियों का साथ और सहयोग नहीं मिलेगा या मिलेगा भी तो आधे-अधूरे मन से जिसके कारण आप किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुँच पाएंगे। इस समय दो तरह की समस्याओं से जूझना पड़ेगा, पहला यह कि अपने लोगों से सहयोग का ना मिलना और दूसरा असफलता मिलने पर इन्हीं लोगों द्वारा अधिक विरोध करना। यह स्थिति आपको अजीब सी मानसिक उलझन और तनाव में डालेगी। ऐसे समय में बेहतर होगा कि अपनी कमज़ोरियों को किसी के आगे ना बताएं चाहे वह कितना भी करीबी क्यों ना हो। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि आप मजबूर है या परेशान हैं इसका भान भी किसी को ना होने दें। जो लोग संतान के लिए प्रयास कर रहे हैं या उम्मीद बना रहे हैं उन्हें अभी प्रतीक्षा करनी चाहिए क्योंकि यह समय इसके लिए अभी उपयुक्त नहीं।

वृष का सावधानी एवं उपचार

शनिवार को सरसों का तेल लगाकर स्नान करें और फिर शनि देव को सरसों के तेल का दीपक दिखाएँ। घर में पुराने फर्नीचर हों तो हटा दें। संतुलित रहें, अनर्गल वार्तालाप करने वालों से दूरी बनायें, मंगलवार माँ काली को लाल पुष्प अर्पित करें। अच्छी नींद लें और खूब मनोरंजन करें। तर्क-वितर्क से बचने का प्रयास करें, दूसरों के कार्यों में अनावश्यक हस्तक्षेप से बचें। गुरु-शुक्र की युति यदि जन्म के समय भी हो तो ठंडी वस्तुओं का सेवन और नशे से बचें।