चंद्र ग्रह और ज्योतिष - चंद्र ग्रह का आपकी कुंडली पर प्रभाव

प्रथम भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार प्रथम भाव में स्थित चंद्र आपके लिए विदेश यात्राओं का योग बना रहा है। आप हर स्थिति में प्रसन्न रहना जानते हैं। आप स्वभाव से साहसी और सामाजिक व्यक्ति हैं और आपका व्यक्तित्व बहुत आकर्षक है। कई क्षेत्रों में जैसे की रचनात्मक कार्य, आध्यात्म आदि में आपकी रुचि होगी और आपको कोई बड़ी सफलता भी मिलेगी। चंद्रमा की उपस्थिति लग्न में होने के कारण आप स्वभाव से संवेदनशील और भावुक होंगे। आपकी कल्पनाशक्ति आपको जीवन में उन्नति की ओर ले जाएगी। आप अपने जीवन को उसूलों के साथ जीना पसंद करते हैं। व्यावहारिकता और तर्कशक्ति के द्वारा आप अधिकतर मामले आसानी से सुलझा सकेंगे। प्रेम प्रसंगों में भी आप सहजता का अनुभव करेंगे। जीवन साथी को बहुत प्रेम देंगे और परिवर्तन के लिए हमेशा तैयार रहेंगे। घूमने फिरने में आपका बहुत मन लगता है। आप सबके प्रिय रहेंगे। चंद्रमा की इस स्थिति के कारण धन संचय करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा और कुछ वर्षों तक शारीरिक रूप से अस्वस्थ रह सकते हैं।

द्वितीय भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार द्वितीय भाव में स्थित चंद्रमा स्पष्ट कर रहा है कि आर्थिक रूप से आप बहुत अच्छी स्थिति में रहेंगे। अधिकतर सभी कार्यों में आपको अनुकूल परिणाम मिलेंगे। समय समय पर आर्थिक उतार चढ़ाव आ सकते हैं परन्तु फिर भी जीविका अच्छी होगी और धन संचय भी संभव हो सकेगा। आप अनेकों लोगों को जीविका का साधन प्रदान कर सकेंगे। जीवन के प्रारंभिक वर्षों में शिक्षा प्राप्ति में कठिनाइयाँ आएँगी परन्तु फिर भी आप अच्छी शिक्षा पा सकेंगे। उदारता आपके जीवन का अंग है पर आपकी वाणी कभी कभी कटु हो सकती है। आपका चेहरा सबको आकर्षित करेगा। धन संग्रह करने में आपको स्त्रियों से समर्थन मिलने के संकेत मिल रहे हैं। समाज में आप एक प्रतिष्ठित व्यक्ति के रूप में जाने जाएंगे और स्वादिष्ट भोजन ग्रहण करने को मिलेंगे। आपका परिवार सुखी और समृद्ध होगा। आपकी संतान विदेश यात्रा पर जा सकती हैं। उनके व्यवसाय में कई तरह के परिवर्तन की संभावनाएं दिखाई दे रही हैं। आपको आँखों से जुडी कोई समस्या हो सकती है।

तृतीय भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार तृतीय भाव में स्थित चंद्रमा आपको जिज्ञासु बनाता है जिस कारण आप हमेशा नयी चीज़ें सीखने में लगे रहते हैं। कला आपके जीवन का महत्वपूर्ण अंग है। आप बहुत सोच समझ कर धन व्यय करते हैं। आपकी रुचि में समय समय पर बदलाव आ सकते हैं। दान पुण्य करना, घूमना फिरना आपको बहुत पसंद है। आप बहुत साहसी हैं और इसी कारण अपने जीवन में होने वाले परिवर्तन को सहजता के साथ अपने पाएंगे। सदा प्रसन्न रहना और प्रसिद्धि प्राप्त करना आपको पसंद है। आपकी छोटी बहनों की संख्या अधिक होने की सम्भावना है। अपने परिवार में सबसे आपके संबंध अच्छे रहेंगे। आपके पिता के व्यवसाय में कुछ परिवर्तन आयेंगे और उन्हें यात्रा भी करनी पड़ सकती है। संकेत मिल रहे हैं कि आप अपने जीवन साथी के साथ विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। चंद्रमा की इस स्थिति के कारण आप अपने विचारों को दूसरों तक सहजता से नहीं पंहुचा पाते।

चतुर्थ भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार चतुर्थ भाव में स्थित चंद्रमा स्वभाव से आपको उदार और प्रसन्न बनाता है। अधिकतर सभी कार्यों में आप मानसिक शांति के साथ जीवन में आगे बढ़ पाएंगे। आपके भीतर विषय वासना के प्रति रुचि देखने को मिलेगी। जीवन में कभी भी आपको सुख सुविधा, अच्छे मित्र, धन संपत्ति, आदि प्राप्त करने के लिए कठिनाइयाँ नहीं आएँगी। आप और आपका जीवन साथी सभी के बीच प्रिय बनकर रहेंगे। जीवन में कई बार आपको अपना घर बदलना पड़ सकता है। आपको घूमना फिरना पसंद है। आप आसानी से कुछ नहीं भूलते। जीवन में शुभ लाभ पाने के लिए अपने पैतृक घर के रख रखाव में सहयोग दें। अपने परिवार और माता से आप बहुत प्रेम करते हैं और सदा उनका ध्यान रखते हैं।

पंचम भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार पंचम भाव में स्थित चंद्रमा आपको बुद्धिमान और साहसी बनाएगा।खेल कूद, मनोरंजन, और कला से जुड़े कार्य आपको बहुत पसंद हैं। आप अपना जीवन सुख सुविधाओं और प्रसन्नता के साथ जीना चाहते हैं और इसके लिए प्रयास भी करते हैं। आपको अपने जीवन में प्रेमाकर्षण और उन्नति दोनों ही बहुत मिलेंगे। आपकी रुचि गुप्त विद्या, धर्म कर्म में होने के साथ साथ सट्टे बाज़ारी में भी होगी। अपने बच्चों के द्वारा आपको प्रसन्नता और संतुष्टि दोनों की अनुभूति होगी। माता धार्मिक विचारों वाली और दान पुण्य में विश्वास रखने वाली होंगी। जीवन साथी किसी लाभ के मिलने का माध्यम बनेगा। किसी पुत्र का आपके जीवन में अधिक महत्व रहेगा। आपके स्वास्थ्य के लिए कुछ तरल पदार्थ अच्छे नहीं रहेंगे। अपने चिडचिडेपन पर नियंत्रण बना कर आप अपना भाग्य चमका सकते हैं। किसी प्रकार के रहस्य को छिपाना आपके लिए बहुत कठिन होगा।

छठे भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार छठे भाव में स्थित चंद्रमा आपके अधिकतर कार्यों में शुभ फल ना मिल पाने के संकेत दे रहा है। अपने बाल्यकाल में आपको कठिनाइयाँ झेलनी पड़ेंगी। आपके नीचे काम करने वाले लोगों से अच्छे सम्बंध बनाये रखने के लिए बहुत प्रयास की आवश्यकता है। जीविका के लिए नौकरी में कई बार परिवर्तन आयेंगे। सही निर्णय ले पाने में आप हमेशा समर्थ नहीं होंगे। किसी कार्य को लेकर आपको अपमान का सामना करना पड़ सकता है। अपने शत्रुओं को आप पहचानने की क्षमता रखते हैं। कर्ज़े के कारण आपकी मानसिक शांति पर बुरा प्रभाव पड़ेगा और आर्थिक स्थिति भी बिगड़ेगी। अस्वस्था आपको परेशान करेगी पर आयु लम्बी मिलेगी। आंखों और पेट से जुड़े रोग परेशान करेंगे। माता से सम्बन्ध मधुर बनाये रखें। आपके पिता को शुभ फल मिलेंगे और किसी प्रतिष्ठित पद पर नियुक्ति होगी। बच्चों को भी जीवन में बहुत उन्नति प्राप्त होगी।

सप्तम भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार सप्तम भाव में स्थित चंद्रमा आपमें नेतृत्व की क्षमता प्रदान करता है। धीरज से काम लेना आपको पसंद है परन्तु कभी कभी अधीरता आप पर हावी हो जाती है। चंद्रमा की यह स्थिति आपके जीवन में बहुत सारी यात्राएं लेकर आएगी और आपको जलीय मार्ग से यात्रा करना अच्छा लगता है। आपकी गणना सभ्य लोगों में होगी। जीविका के लिए कोई व्यापार या वकालत आपके लिए अच्छी रहेगी। आप स्फूर्ति से भरे होंगे परंतु इसे अभिमान में परिवर्तित न होने दें। आपका विवाह जल्दी होने की सम्भावना दिखाई दे रही है। जीवन साथी से बहुत अधिक लगाव होगा ओर साथ में घूमना फिरना भी होगा। अपने व्यापार में आपको और आपकी संतान दोनों को ही बहुत सफलता प्राप्त होगी। आपकी संतान को भी यात्रा करना अच्छा लगेगा। उन्हें अपने व्यापार में आवश्यकता अनुसार बदलाव करने पड़ सकते हैं। आपको विदेश यात्रा का सुख भी प्राप्त हो सकता है।

अष्टम भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार अष्टम भाव में स्थित चंद्रमा कोई अच्छे संकेत नहीं दे रहा है। आपको मिश्रित परिणाम मिलेंगे। व्यापार में सफलता और विवाह के द्वारा धन प्राप्ति जैसे लाभ मिलेंगे। आप विषय वासना की ओर आकर्षित होंगे। कोई बंधन आपके जीवन में दुःख लायेगा और कार्यों में अनेक प्रकार की रुकावटें आएँगी। कभी आपके व्यव्हार के कारण लोग आपको ईर्ष्यालु समझ सकते हैं। शत्रु पक्ष भी आपके ऊपर हावी हो सकता है। आपकी माता के साथ आपके संबंधों में बिगाड़ आ सकता है और उन्हें किसी कठिनाई का सामना करना पड़ेगा। आपका स्वास्थ्य आपको बहुत परेशान करेगा। सूजन, फेफड़े के रोग, जल सम्बंधित रोग, खांसी, नजला, ज़ुक़ाम, चिंता, मूत्रक्च्छ आदि रोग आपको बहुत दुर्बल करेंगे। आपका स्वाभिमानी स्वभाव आपको जीवन में शक्ति प्रदान करेगा।

नवम भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार नवम भाव में स्थित चंद्रमा आपको न्यायप्रिय, साहसी, बलिष्ठ, धार्मिक, उदार, भाग्यशाली और विद्वान् बनाता है। युवावस्था से ही आपका भाग्य आपको अनेकों लाभ पहुंचाएगा। धन संपत्ति की कभी कोई कमी नहीं होगी। आपको किसी बड़े सरकारी व्यक्ति और अन्य लोगों से भी बहुत सम्मान मिलेगा। आपने हमेशा अपने जीवन में कर्म को सबसे ऊपर रखा है। धार्मिक कार्यों और दान पुण्य करने में आप योगदान करते रहते है। चिकित्साल्यों और जलाशयों के द्वारा आप अपनी सहायता लोगों तक पहुंचाते हैं। आपके पिता का आपके जीवन में बहुत महत्व है। बच्चों के साथ आपका अच्छा सामंजस्य रहेगा और वे सदा आपकी आज्ञा का पालन करेंगे। यात्रा करना आपको अच्छा लगता है और आप किसी विदेश यात्रा का सुख उठा पायेंगे।

दशम भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार दशम भाव में स्थित चंद्रमा प्रतिष्ठा, लोकप्रियता और सफलता प्रदान करेगा। स्वभाव से आप संतोषपूर्ण, बुद्धिमान, दयालु और निर्मल हैं। इसी कारण आप हमेशा लोगों का भला करते हैं। अपने कार्यों को सही रूप से पूर्ण करने की क्षमता के कारण आप व्यापार और व्यवसाय में सफलता पायेंगे। आपके जीवन में उपस्थित सभी स्त्रियों से आपके सम्बन्ध मधुर रहेंगे। आपकी महत्वाकांक्षा आपको किसी उच्च सरकारी पद पर ले जा सकती है। आपके व्यवसाय में कई परिवर्तन दिखाई पड़ रहे हैं। विदेश यात्रा पर जाना भी संभव है। २४वां एवं ४३वां वर्ष आपके भाग्योदय के लिए उत्तम है। आपकी आयु लम्बी होगी। आपके बच्चों की ओर से कुछ चिन्ताएं घेर सकती हैं।

एकादश भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार एकादश भाव में स्थित चंद्रमा आपको सरकारी कार्य प्राप्त करने में सफलता दिलायेगा। कोई उच्च पद अथवा सम्मान भी प्राप्त हो सकता है। सामजिक रूप से भी आप प्रतिष्ठित व्यक्ति होंगे। राजनीति में सफलता पाने के संकेत मिल रहे हैं। सरकारी कार्यों की जानकारी भी सही रूप से आपके पास उपलब्ध होगी। धन सम्पति की कोई कमी नहीं होगी। आप इमानदार, गुणवान और बुद्धिमान व्यक्ति हैं। आपके स्वभाव में चंचलता भी होगी। आपको लम्बी आयु प्राप्त होगी जिसमे आप महंगी गाड़ियां, नौकर चाकर, संतान सुख, आदि सभी कुछ पा सकेंगे। व्यापार से भी आपको बहुत लाभ मिलेगा। विदेश यात्रा भी आपको सुख देगी। आप बहुत सहजता से सबके साथ घुल मिल जाते हैं। पुत्रों से अधिक संख्या आपकी पुत्रियों की होगी। कार्यों को समय सीमा में रहते हुए पूर्ण करने की कोशिश करें।

द्वादश भाव में स्थित चंद्र का फल

आपकी कुंडली के अनुसार द्वादश भाव में स्थित चंद्रमा आलस्य और भावनात्मक चिन्ताएं प्रदान कर सकता है। शत्रुओं की संख्या अधिक होगी। आपको एकांत में रहकर चिंतन करना अच्छा लगता है। अपने ख़र्चों पर नियंत्रण बनाएं। आपकी रुचि विदेश यात्राओं, प्रेम और रहस्यात्मक विषयों में हो सकती है। आप सबसे अच्छा बोलते हैं। आप किसी अस्पताल एवं धार्मिक संस्था में किसी प्रकार का योगदान करेंगे। विदेश यात्रा संभव हो सकती है। व्यवसायिक मामलों में कम जानकारी के चलते इनसे दूरी बनी रहेगी। आपका जीवन प्रतिबंधों से घिरा हो सकता है। आँखों से जुड़े रोग एवं कफ रोग आपके स्वास्थ्य को बिगाड़ सकते हैं।

Panchang For Today
New Delhi, India, Saturday, February 22, 2020
Day
Moonsign
Month Vaisakha
Paksha
Tithi
Nakshatra
Ayanamsa
Yoga
Karan
Disha Shool
Disha Shool Remedy